New launch – Shivananda Lahari Webinar by Swami Advayananda – Click to know more | Celebrate your special day with Birthday Blessings – Click here to know more
View Catalogue

New Releases

20% OFF
Bhamati - Brahmasutra-Catuhsutri (Shankarabhashyam) (Translation and Commentary in Hindi)
Price $ 21
Author     Dr.Kanshi Ram
About The Product
बादरायण द्वारा रचित ब्रह्मसूत्र पर शाङ्करभाष्य का भारतीय दर्शन में एक अनुपम स्थान है। सूत्र तथा भाष्य के अर्थ का मर्म समझने तथा समझाने के लिये शाङ्करभाष्य पर अनेक व्याख्याएं लिखी गईं। शाङ्करभाष्य पर वाचस्पतिमिश्र द्वारा रचित भामती टीका का महत्त्व इस तथ्य से ही स्पष्ट हो जाता है कि इसमें प्रतिपादित अद्वैतवेदान्त के सिद्धान्तों के आधार पर यह टीका ही भामती-प्रस्थान के रूप में प्रसिद्ध हो गई। भामती वाचस्पतिमिश्र की अन्तिम रचना है – मण्डनमिश्रकृत विधिविवेक पर न्यायकणिका, उनके ही द्वारा रचित ब्रह्मसिद्धि पर तत्त्वसमीक्षा, तत्त्वबिन्दु, उद्योतकर के न्यायवार्तिक पर तात्पर्यटीका, ईश्वरकृष्ण द्वारा रचित सांख्यकारिका पर सांख्यतत्त्वकौमुदी, योगसूत्र के व्यासभाष्य पर तत्त्ववैशारदी की रचना करने के अनन्तर वाचस्पतिमिश्र ने भामती की रचना की। दर्शनसम्बन्धी इतने व्याख्याग्रन्थों के लिखने के पश्चात् भामती की रचना से यह स्पष्ट हो जाता है कि गाम्भीर्य तथा प्रौढ़ता की दृष्टि से भामती अद्वैतवेदान्त की एक अनुपम कृति है। वाचस्पति ने भामती में शाङ्करभाष्य की व्याख्या करते हुए इस बात का ध्यान रखा है कि भाष्य का अभिप्रेत अर्थ यथाग्रन्थ प्रतिपादित हो। भामती के अतिरिक्त ब्रह्मसूत्रशाङ्करभाष्य पर रचित पद्मपादाचार्यकृत पञ्चपादिका पर प्रकाशात्मन् के द्वारा रचित पञ्चपादिकाविवरण भी एक महत्त्वपूर्ण रचना है। इनका दो प्रस्थानों में वर्गीकरण किया गया है (1) भामती प्रस्थान (2) विवरण प्रस्थान। सैद्धान्तिक मतभेदों के साथ इन दोनों व्याख्याओं का परिचय दोनों प्रस्थानों के स्वरूप को समझने में उपयोगी रहेगा – इस दृष्टि से दोनों प्रस्थानों के दार्शनिक सिद्धान्तों जैसे प्रतिबिम्बवाद तथा अवच्छेदवाद, अविद्या का आश्रय, ब्रह्मसाक्षात्कार का साधन, साक्षात्कार में ब्रह्म उपहित होता है या अनुपहित, मन इन्द्रिय है या नहीं आदि मतभेदों को लेकर प्रस्तुत व्याख्या में प्रसङ्ग के अनुसार विवेचन भी प्रस्तुत किया गया है।

Quote of The Day

Swami Chinmayananda
NEWSLETTER SIGN UP

Get to know what happens at CIF. Be in touch
and get regular updates and invitations.